home page

World Environment Day 2023: आज है विश्व पर्यावरण दिवस, जानें क्या है इसको मनाने का उद्देश्य, यहां जानें इसक इतिहास और 2023 की थीम

यह धरती ही हमारा घर है और हमें इसे हर कीमत पर बचाना है। हर साल विश्व पर्यावरण दिवस इसलिए मानाया जाता है क्योंकि दिन प्रतिदिन खराब हो रहे पर्यावरण को सुधारा जा सके। इसे बचाने के लिए और अपनी धरती का आस्तित्व बनाए रखने के लिए...

 | 
enviroment

Newz Funda, New Delhi धरती पर पर्यावरण को बचाने के लिए लगातार प्रयासों की जरूरत है और World Environment Day सभी में जागरुकता फैलाने का कार्य करता है।

देशभर में हर साल World Environment Day 5 जून को मनाया जाता है। पर्यावरण दिवस को लोग जनसहभागिता के रूप में मनाते हैं। इस दिन को मनाने का मुख्य उद्देश्य लोगों में पर्यावरण के प्रति जागरूकता पैदा करना है।

हालांकि आज के युग में और औद्योगीकरण के दौर में पेड़ों की अंधाधुंध कटाई चिंता का विषय बन गया है। हम औद्योगीकरण में तो तरक्की कर रहे है लेकिन इसी के साथ ही हम अपना पर्यावरण प्रदूषित कर रहे है।

इसके चलते दुनियाभर के वातावरण में तेजी से बदलाव देखने को मिल रहा है। तेजी से हो रहे पर्यावरण परिवर्तन को सुरक्षा प्रदान करने का संकल्प लेने के उद्देश्य से ही हर साल विश्व पर्यावरण दिवस मनाया जाता है। आइए जानते हैं पर्यावरण दिवस मानने का उद्देश्यए क्या है इसका इतिहास और इस वर्ष की क्या है थीम।

2023 में विश्व पर्यावरण दिवस  की थीम

हर देश में मनाया जाने वाला पर्यावरण दिवस हर साल एक अलग ही थीम पर बेस्ड होता है। इस बार विश्व पर्यावरण दिवस 2023 की थीम ( World Environment Day Theme) , (Solutions to plastic pollution) है।

यह थीम प्लास्टिक प्रदूषण के समाधान पर आधारित है। हर यह पूरी तरह लागू होती है तो इसके बेहद चैकाने वाले नतीजे निकलकर सामने आएंगे। 

क्या है विश्व पर्यावरण दिवस का उद्देश्य

World Environment Day मनाने का मुख्य उद्देश्य दुनियाभर के लोगों में दिन ब दिन हो रहे पर्यावरण बदलाव के प्रति जागरूकता फैलाना है।

लोगों को पर्यावरण प्रदूषण, जलवायु परिवर्तन, ग्रीन हाउस के प्रभाव, ग्लोबल वार्मिंग, ब्लैक होल इफेक्ट आदि ज्वलंत मुद्दों से रूबरू करना है। इन परिवर्तनों से होने वाली विभिन्न प्रकार की समस्याओं के प्रति जागरूक करना है।

दुनियाभर में इस दिवस को मनाने का उद्धेश्‍य पर्यावरण की समस्‍याओं को मानवीय चेहरा देने के साथ ही लोगों को पर्यावरण के प्रति जागरूक करना है। ताकि लोग समय रहते पर्यावरण के प्रति जागरूक हो और इससे संभाल सके। 

जानें क्या है विश्व पर्यावरण दिवस का इतिहास

विश्व पर्यावरण दिवस पहली बार 1972 में संयुक्त राष्ट्र संघ की ओर से मनाया गया था। उस समय वहां पर्यावरण में होने वाले प्रदूषण पर स्टॉकहोम (Swiden) में पहले सम्मेलन का आयोजन किया गया था।

इस प्रदूषण जागरूक सम्मेलन में 119 देशों ने हिस्सा लिया था। सभी ने एक धरती के सिद्धांत को मान्‍यता देते हुए हस्‍ताक्षर किए। इसके बाद 5 जून को सभी देशों में World Environment Day के रूप में मनाया जाने लगा।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि भारत में 19 नवंबर 1986 से पर्यावरण संरक्षण अधिनियम लागू हुआ था।