home page

Home Loan Tips: अब आपको होम लोन का बोझ नहीं करेगा परेशान, अपनाएं ये 5 स्मार्ट तरीका, EMI से मिलेगा छूटकारा

घर के लिए होम लोन लेने वाले किस्त बाउंस या अन्य समस्याओं के अक्सर जूझते है, आइए आपको कुछ ऐसे 5 टिप्स के बारे में बताते है जो आपको होम लोन को सरल करने में सहायक होते है और आप अपने होम लोन का बोझ कम कर सकते हैं।

 | 
home loan

Newz Funda, New Delhi आज के इस मंहगाई के दौर में आम आदमी के लिए उनकी मूलभूत जरूरत रोटीए कपड़ा और मकान  है, जिसका खर्चा उठाना भी आसान नहीं है।

खासकर अगर आप लोअर और मिडिल क्लास फैमिली से है तो रोटी.कपड़े का जुगाड़ तो कर ही लेते हैं। हालांकि इन परिवारों के लिए घर खरीदने का सपना पूरा करना कोई आसान काम नहीं है।

इनके लिए घर खरीदना भले ही जरुरत में शामिल क्यों न हो। लेकिन नौकरी या अपने बिजनेस  में उन्हें इतनी मोटी सेविंग नहीं होती कि एक ही झटके में घर खरीदा जा सके। ऐसे में इन परिवरों के लिए एक ही विकल्प होता है, वो है Home Loan का।

वहीं देश के कुछ महानगरों में खुद का घर खरीदना इतना महंगा हो गया है कि ज्यादातर लोगों को इसके लिए होम लोन लेना पड़ता है। वहीं अगर आपको होम लोन आसानी से मिल जाएए तो भी आपको उसकी भारी ब्याज  चुकानी पड़ती है।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि आमतौर पर होम लोन की अधिकतम अवधि 25 से 30 साल होती हैए लेकिन बहुत सारे लोगों के लिए इतना लंबा पीरिड्स एक बोझ की तरह हो जाता है।

बैंक के एक अधिकारी ने ये 5 स्मार्ट तरीके बताए हैं। ऐसे में अगर आप भी होम लोन लेने लेकर घर खरीदने की प्लानिंग कर रहे हैं तो इसके जरिये आप अपने होम लोन का बोझ कम कर सकते हैं।

1. प्री-पेमेंट करने के लिए तैयार करें स्पेशल फंड 

होम लोन लेने से पहले आपको प्री-पेमेंट करने के लिए किसी जैकपॉट की जरूरत नहीं है। अगर आपने 20 से 30 साल की उम्र में होम लोन लिया है तो आप अपनी बचत में से कुछ अतिरिक्त पैसों का एक फंड बना सकते हैं।

इस फंड में Salary में हुए इंक्रीमेंट का हिस्सा, बोनस, एक्सट्रा इनकम को शामिल कर सकते हैं। फिर इस फंड में जमा राशि को एकमुश्त होम लोन के प्री_पेमेंट के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं।

कुछ-कुछ साल की अवधि में ऐसा करने से Loan Amount और उस पर लगने वाला ब्याज भी कम होता जाएगा। ये ब्याज में कटौती के साथ लोन की अवधि कम करने में भी मदद करता है।

2. हर महीने EMI पेमेंट की राशि बढ़ा दें

आपके Loan के टाइप को देखते हुए आप ये पता कर सकते हैं कि आप अपने महीने की किस्त बढ़ा सकते हैं या नहीं. अगर आपका Fixed रेट लोन है तो इससे आपको मदद मिलेगी. Refinace न करा पाने की स्थिति में आप मंथली पेमेंट को बढ़ाकर लोन जल्दी जमा कर सकते हैं.

इससे आप Intrest को बढ़ने का मौका ही नहीं देते हैं और Principal Amount भी घटता रहता है. आप हर महीने एक EMI बढ़ा कर भी दे सकते हैं.

3. होम लोन ट्रांसफर कराने पर कर सकते हैं विचार

कई लोगों को सैलरी कम होने और Credit Score अच्छा न होने के चलते High Intrest Rate पर होम लोन लेना पड़ता है. लेकिन समय के साथ Permotion और इंक्रीमेंट होने या Job Switch करने के बाद अगर आपकी मंथली सैलरी अच्छी हो गई है तो आप अपने Home Loan की बैलेंस राशि को किसी अन्य बैंक में Transfer कराने पर विचार कर सकते हैं.

ऐसे Bank, जिनका इंटरेस्ट रेट कम हो. कई Bank ऐसी सुविधा देते हैं, कुछ इसके लिए Processing Fee Charge करते हैं. दूसरे बैंक में Loan को तेजी से चुकाने के लिए EMI बढ़वाकर आप लोन टेन्योर को कम भी करवा सकते हैं.

अगर आपके होम लोन की अ​वधि 20 वर्ष है तो शुरुआती 2 से 5 वर्ष के बीच लोन को दूसरे बैंक में Transfer करा लेना बेहतर रहेगा.

4. म्यूचुअल फंड SIP में निवेश करने से होगा फायदा

SIP यानी सिस्टमैटिक Investment Plan के जरिए म्यूचुअल फंड में निवेश करने पर आपको एक तय समय के बाद अच्छा खासा Return मिल सकता है. नाव्या एक उदाहरण के जरिये बताती हैं, 'जैसे आपने 25 लाख का Home Loan लिया है, जिसकी अवधि 25 साल है.

वहीं दूसरी ओर आप हर महीने 5,000 रुपये की अतिरिक्त कमाई या Saving SIP की किसी ऐसी स्कीम में लगाते हैं, जहां 15 वर्ष के बाद आपको 20 से 22 लाख तक का Return मिल जाए.'  

ऐसे में आप इस मोटी राशि का इस्तेमाल Home Loan को Pre- Payment करने में कर सकते हैं. इससे आपके होम लोन की अवधि सीधे 10 साल कम हो जाएगी.

Mutual Fund में निवेश करने से आपको Tax Saving में भी मदद मिलेगी. और 10 साल पहले कर्ज से मुक्त हो जाने पर आप Tension Free होकर दूसरी वित्तीय जिम्मेदारियां पूरी कर पाएंगे.

5. इस तरीके का भी कर सकते हैं इस्तेमाल

आप एक लंपसम अमाउंट भरकर भी अपना होम लोन टर्म कम करा सकते हैं. अगर आपके पास अचानक एक्स्ट्रा कैश की व्यवस्था हो जाए.

जैसे, किसी पुश्तैनी संपत्ति के बंटवारे से, किसी पुराने इन्वेस्टमेंट की मैच्योरिटी से, पिता या मां अपनी रिटायरमेंट के बाद एकमुश्त राशि में से कुछ हिस्सा स्वेच्छा से दे दें या फिर अन्य किसी संयोग से आपके पास एक्सट्रा cash उपलब्ध हो जाए, जिसकी आपको लंबे समय तक जरूरत नहीं पड़ने वाली, तो आप अपने bank से बात करके एडिशनल पेमेंट कर सकते हैं.

आप एक्स्ट्रा लंपसम अमाउंट भरकर अपना loan जल्दी बंद करवा सकते हैं. लंपसम Amount पे मतलब One Time Payment , जिसमें आप एक बड़ा अमाउंट बैंक को दे देते हैं और इससे आपका Principal Amount cover हो जाता है और ब्याज भी कम हो जाता है. बहुत सारे लोग इस तरीके का इस्तेमाल करते हैं.