home page

मेडिकल स्टूडेंट होकर भी पूरा किया आईएएस बनने का सपना, पहली बार में ही क्रेक किया एग्जाम !

Doctor renu raj IAS story: डॉक्टर रेनू राज केरल के अलाप्पुझा में जिला कलेक्टर के रूप में दृढ़ संकल्प से काम कर रही हैं. उन्होंने अपने मेडिकल करियर को आगे बढ़ाते हुए,  यूपीएससी परीक्षा की तैयारी शुरू कर दी थी और कुछ ही महीनों की पहले ही अटेंप्ट में परीक्षा में अच्छी रैंक हासिल की.
 | 
मेडिकल स्टूडेंट होकर भी पूरा किया आईएएस बनने का सपना, पहली बार में ही क्रेक किया एग्जाम !

Newz Funda, New delhi | Doctor renu raj IAS story: डॉक्टर रेनू राज केरल के अलाप्पुझा में जिला कलेक्टर के रूप में दृढ़ संकल्प से काम कर रही हैं. उन्होंने अपने मेडिकल करियर को आगे बढ़ाते हुए,  यूपीएससी परीक्षा की तैयारी शुरू कर दी थी और कुछ ही महीनों की पहले ही अटेंप्ट में परीक्षा में अच्छी रैंक हासिल की. जानिए आईएएस अधिकारी डॉ. रेनू राज की सफलता की पूरी कहानी.
डॉ. रेनू राज ने स्कूली शिक्षा केरल के कोट्टायम में सेंट टेरेसा हायर सेकेंडरी स्कूल से ग्रहण की. इसके बाद उन्होंने कोट्टायम के ही सरकारी मेडिकल कॉलेज में मेडिकल की पढ़ाई की और मेडिकल प्रैक्टिस के साथ-साथ उन्होंने साल 2013 में यूपीएससी परीक्षा की तैयारी भी शुरू कर दी.
 

डॉ. रेनू राज ने 2014 में, संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) द्वारा आयोजित सिविल सेवा परीक्षा और पहले ही अटेंप्ट में दूसरी रैंक हासिल कर अपना सपना सपना सच कर दिखाया. उनके पिता एक रिटायर सरकारी कर्मचारी हैं व माता हाउस वाइफ हैं, और उनकी दोनों बहनें और उनके पति डॉक्टर हैं. उन्होंने अपनी फील्ड सबसे अलग चुनी.

कुछ अलग करने का जज्बा 
डॉ. रेनू राज यूपीएससी की तैयारी के दौरान एक सर्जन थीं. अपने कई इंटरव्यू में, उन्होंने समाज पर व्यापक प्रभाव डालने की अपनी इच्छा का ज़िक्र किया. एक डॉक्टर बनने से उसे 50 या 100 मरीजों की मदद कर पाएंगे पर वहीं एक सिविल सेवक बनेंगे तो हजारों लोगों को फायदा होगा. उन्होंने इस अहसास से प्रेरित होकर यूपीएससी परीक्षा देने का फैसला किया और पहली ही बार में इसे पास कर दिखाया.

टिप्स की शेयर 
डॉ. रेनू राज ने अपने तजुर्बे के अनुसार कुछ टिप्स शेयर किए हैं. मेडिकल प्रैक्टिस के दौरान उन्होंने यूपीएससी परीक्षा की तैयारी के लिए रोजाना 3-6 घंटे समर्पित किए. वे छह से सात महीने तक इस शेड्यूल को फॉलो करती थी, बाद में उन्होंने तैयारी पर पूरा फोकस किया. इस परीक्षा के बाद उन्होंने मेडिकल प्रैक्टिस को फिर से शुरू करदिया.

 2022 में की शादी 
डॉ. रेनू राज ने अप्रैल 2022 में,  आईएएस अधिकारी श्रीराम वेंकटरमण से शादी की, वे केरल मेडिकल सर्विसेज कॉर्पोरेशन में एमडी की रूप में कार्य करते हैं. इतना सब होने के बाद भी इस जोड़े ने अपनी शादी को सादगी से मनाया और अपने प्रियजनों के बीच शादी की रस्में पूरी कीं. बता दे की,  श्रीराम वेंकिटरमण ने भी 2012 में आयोजित हुई यूपीएससी परीक्षा में दूसरी रैंक हासिल की.

डॉ. रेनू राज ने समर्पण और दृढ़ता से चुनौतियों पर काबू पा मेडिकल से सिविल सेवाओं में करियर परिवर्तन कर एक सकारात्कमक उदहारण पेश किया है. उनके जीवन से हम यह सिख सकतें है की सपनो को किसी भी हालात में पूरा किया जा सकता है बस मेहनत और लगन की ज़रूरत है.