home page

Ajab-Gajab: बलि के बकरे का बदला, जाना पड़ा अस्पताल, जानें क्या है पुरा मामला

खबर सुरज पुर जिले के एक गांव मदन पुर की है. यहां रहने वाले 50 साल के बागर साई की मौत बलि के बकरे का ये अंग खाने से हो गई, जिसके बाद...

 | 
got

Newz Funda, New Delhi आए दिन अजीबो-गरीब खबरें पढ़ने और सुनने को मिलती हैं। इन दिनो एक चौकाने वाली खबर सामने आई है। बताया जा रहा है की सुरजपुर के एक व्यक्ति ने मन्नत पुरी होने पर मदिंर में बकरे की बलि दी थी लेकिन उसी ने उसकी जान ले ली​​​​.

यह पूरा मामला छत्तीसगढ़ के सूरजपुर जिले का है, जहां से हैरान करने वाला मामला सामने आया है। सूरजपुर जिले में स्थित एक छोटे से गांव मदनपुर के रहने वाले 50 साल के बागर साई की बकरे की आंख खाने से मौत हो गई है। अब यह सुनकर हर कोई हैरान है। मन्नत पूरी होने पर बागर साई ने मंदिर में बकरे की बलि दी थी। 

रिपोर्टस के आधार पर मिली जानकारी के अनुसार, बागर साई ने मनोकामना पुरी होने के लिए मन्नत मांगी थी जब उसकी मनोकामना पुरी हो गई तो उसने गोपा धाम मदिंर में बकरे की बलि दी और मांस मदिंर के देवता को अर्पण किया.

इसके बाद बचे मांस को उसने रिशतेदारो में बांट दिया। बागर और उसके दो दोस्त बकरे का सिर ले कर घर आ रहे थे। रास्ते में उन्होने शराब खरीदकर पी.

इसके बाद वे मांस पकाने की तैयारी करने लगे। बागर ने कहा कि वह कच्चा मांस खाएगा, दोस्तो के मना करने के बाद भी उसने बकरे की आंख निकालकर खा ली जो उसके गले में फंस गई। इसके कुछ देर बाद ही उसकी मौत हो गई।

अब कई लोग इस घटना को लेकर अपनी तरह से व्याख्या कर रहे हैं। कुछ लोगों का कहना है कि उसके कर्मों का फल मिला, तो कुछ का कहना है कि बलि के नाम एक जानवर को मारकर पाप करने का परिणाम था।