home page

ट्रेन की तत्काल टिकट बुक करवाने से पहले जान लें यह नियम, नहीं होगी परेशानी

प्रदेश की राजधानी लखनऊ के चारबाग रेलवे स्टेशन के आरक्षण केंद्र बोर्ड की ओर से दी गई जानकारी के मुताबिक यात्री ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों ही तरह से तत्काल टिकट बुक करवा सकते हैं. इसके लिए 24 घंटे पहले उन्हें सीट बुक करानी होती है.

 | 
ट्रेन की तत्काल टिकट बुक करवाने से पहले जान लें यह नियम

Newz Funda, Newdelhi: ट्रेन से सफर करने वालों के साथ अक्सर यह होता है कि उन्हें किसी न किसी जरूरी काम से अचानक एक राज्य से दूसरे राज्य या एक जिले से दूसरे जिले में जाना पड़ता है.

ऐसे में एडवांस बुकिंग सीट न होने पर यात्री तत्काल में अपनी सीट बुक करते हैं, लेकिन ज्यादातर यात्रियों को तत्काल के क्या नियम होते हैं यह उन्हें नहीं पता होता है. ऐसे में उन्हें दिक्कतों का सामना करना पड़ता है.इसीलिए आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि ट्रेन में तत्काल आरक्षण सेवा के क्या नियम हैं.

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के चारबाग रेलवे स्टेशन के आरक्षण केंद्र बोर्ड की ओर से दी गई जानकारी के मुताबिक यात्री ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों ही तरह से तत्काल टिकट बुक करवा सकते हैं. इसके लिए 24 घंटे पहले उन्हें सीट बुक करानी होती है. यानी जिस दिन सीट बुक कराएंगे उसके अगले दिन यात्री यात्रा कर पाएंगे.

ऑनलाइन बुकिंग की प्रक्रिया बहुत आसान है, लेकिन अगर आप आरक्षण केंद्र पर जाकर तत्काल टिकट बुक करते हैं तो इसकी नियम थोड़ी कठिन लोगों को लगते हैं. इसके लिए आरक्षण केंद्र पर जाना पड़ता है, जो रेलवे स्टेशन पर ही बना होता है.

रिफंड के यह नियम होते हैं
आरक्षण केंद्र से सबसे पहले यात्रियों को आरक्षण फॉर्म लेना होता है. इसपर अपना पूरा नाम, पता और मोबाइल नंबर साफ शब्दों में लिखना होता है. अगर जांच के दौरान कोई गलती पाई गई तो आरक्षण रद्द कर दिया जाता और गलत सूचना देने पर यात्री के ऊपर कार्रवाई भी हो सकती है.

डुप्लीकेट तत्काल टिकट केवल विशेष परिस्थिति में ही निर्धारित नियमों के अंतर्गत पूरा किराया और तत्काल प्रभार लेकर ही जारी किया जाता है. आरक्षण केंद्र के रेलवे बोर्ड ने बताया कि आंशिक रूप से कंफर्म और प्रतीक्षा सूची के तत्काल टिकट के निरस्तीकरण पर केवल प्रतीक्षा सूची के यात्री का ही रिफंड किया जाता है. डुप्लीकेट तत्काल टिकट का किसी भी दशा में कोई रिफंड नहीं दिया जाता है.