home page

एक सिद्धू मरवा दिया, दूसरा भी मरवा दो, 'मैं नहीं डरता'... जेल से बाहर आते ही मान सरकार पर बरसे नवजोत सिंह

रोड रेज मामले में पिछले साल मई से पटियाला सेंट्रल जेल के अंदर 10 महीने बिताने वाले सिद्धू की रिहाई ने पार्टी कार्यकर्ताओं के बीच एक नई उम्मीद जगाई है। साथ ही सिद्धू की सिक्योरिटी में कटौती करने पर उनकी ओर से प्रतिक्रिया आई है।

 | 
sidhu

Newz Funda, Punjab Desk पंजाब से कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू रविवार को पटियाला जेल से रिहाई  हुए। जिसके बाद उन्होंने केंद्र सरकार और पंजाब सरकार पर जमकर हमला बोला। वहीं सरकार की ओर से सिद्धू की सुरक्षा कम किए जाने के मुद्दे पर उनका दर्द छलका।

सिद्धू ने मीडिया को संबोधित करते हुए कहा कि मेरी सुरक्षा कम की गई है। सरकार ने पहले सुरक्षा कम कर पहले ही एक पंजाब के सिद्धू को मरवा दियाए अब दूसरा भी मरवा दो। 29 मई 2022 को पंजाबी गायक सिद्धू मूसेवाला की सिक्योरिटी कम करने के बाद उनकी गाड़ी पर गोलियां मारकर हत्या कर दी गई थी।

आपको बता दें कि शनिवार को ही पंजाब सरकार ने सिद्धू की z+ सिक्योरिटी में कटौती करते हुए उनकी y सिक्योरिटी कर दी थी। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि  2022 की 20 मई को नवजोत सिंह सिद्धू 35 साल पुराने रोड रेज मामले में जेल गए थे। इस मामले में एक 65 वर्षीय व्यक्ति की मौत हो गई थी। 

जेल के बाहर रिहाई का जश्न

रोड रेज मामले में 2022 मई से पटियाला सेंट्रल जेल में 10 माह बिताने वाले सिद्धू की रिहाई ने पार्टी कार्यकर्ताओं के बीच एक नई उम्मीद जगाई है। कार्यकर्ताओं और समर्थकों ने उनकी रिहाई से कुछ घंटे पहले जेल के बाहर ढोल की थाप पर जश्न मनाया।

शनिवार की सुबह सिद्धू के ट्विटर और फेसबुक हैंडल से यह जानकारी सांझा की गई कि वह दोपहर करीब एक बजे मीडिया को संबोधित करेंगेए लेकिन उनकी रिहाई शाम को सूर्यास्त से कुछ देर पहले हुई थी।

नहीं डरता मैं मौत से

पंजाब से कांग्रेस नेता नवजोत सिद्धू ने कहा कि मैं मौत से नहीं डरता हूं। संविधान को ही अपना ग्रंथ मानता हूं। कांग्रेस नेता ने कहा कि जो संस्थाएं संविधान की ताकत थींए वे आज गुलाम हो चुकी हैं। उन्होंने कि मैं घबराता नहीं हूंए मैं जो भी काम कर रहा हूं वह पंजाब की अगली पीढ़ियों के लिए कर रहा हूं।

पंजाब कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष की रिहाई से पहले उनके स्वागत के लिए शनिवार को बड़ी संख्या में कांग्रेस कार्यकर्ता और समर्थक नवजोत सिंह सिद्धू के पटियाला सेंट्रल जेल के बाहर पहुंचे थे.